एक कडवी सच्चाई जो हर राजपूत को सुननी और सोचनी चाहिए.

एक कडवी सच्चाई जो हर राजपूत को सुननी और सोचनी चाहिए..

nasha-Rajputana-ka

आज के राजपूतो की हालत बहुत गंभीर व सोचने को मजबूर करने वाली है।

  भरपूर योग्यता है. भरपूर ऊर्जा है. भरपूर समझने की शक्ति है.  संस्कारवान है.  चरित्रवान है.  जमाने का रूख पलटने की ताकत रखता है. पर पता नहीं क्यों सङी गली परम्पराओं व कुशिक्षा की वजह से बंधा पडा है।   जब भी  राजपूतो को आगे बढ़ाने या एकता की बात होती है तो मुख्य रूप से राजनीतिक ताकत बढ़ाने की बात होती है, नेतागिरी चालू हो जाती है।  देश दुनिया पर फिर से वापिस राज कायम करने की हवायें मंसूबे होते हैं। पुराने इतिहास और पुरूषों की गाथाएं बार बार दोहराई जाती है। जन्म तिथि या पुण्य तिथि मनाकर सभा समाप्त हो जाती है। अपने बहुत संगठन है लेकिन आपस में कोई तालमेल नहीं।  सब नेता राजपूतो को भेङ बकरी 🐐 समझते हैं।
सभी बड़ी राजनीतिक पार्टियां  राजपूतों को कमजोर समझती है। हमारे ऊपर किसी न किसी राजपूत नेता को थोप दिया जाता है। फिर हम गुलामों की तरह उनके पीछे पीछे घूमते हैं। समाज की भी कई पत्रिका छपती हैं उनमें???? 
वही कहानियाँ या पुराने किस्से।
" कब तक हम  राजपूतों को भूतकाल में रखेंगे "
 राजपूतो की भावनाओं को भङका कर उनका राजनीतिक लाभ लिया जाता है। शेर बघेरे बता बता कर हमें बहकाया जाता है। सरकार सेना में या अन्य सरकारी नौकरी में हमें कोई बडा रिजर्वेशन नहीं देती है।  आज अपनी समाज भी एक सामान्य जाति हैं उसकी भी वही समस्या है जो सबकी। जबकि हिन्दू समाज की पढी लिखी जातियों ने हमारे प्रति देश में नकारात्मक छवि बनाई है। इसका उदाहरण हिंदी फिल्मों में या इतिहास के किताबों में आप देख सकते हैं, उनमें हमें अय्याशी, शराबी और कई बातें बताते रहते हैं। हमारी लापरवाही का फायदा उठाकर धीरे-धीरे हमें हर क्षेत्र में दूर किया जा रहा है। एक- दो ✌ नेता चुनकर हमारा विकास नहीं हो सकता।  आज कोई भी समाज एक दिशा में विकास करके आगे नहीं बढ़ सकता।

You may Also Like
Banna baisa love shayri and Images 

●  rajputana Attitude What's app Status

best love shayri status For what's app

आज  राजपूतों को चारों और बराबर आगे बढना होगा 

1 शिक्षा व नौकरी के क्षेत्र में 

2 खेती 🌾 बाडी व मजदूरी के क्षेत्र में 

3 राजनितिक में
मेरे विचार के अनुसार राजपूतों का पिछड़ने का कारण
जिसे हम दूर करके बहुत आगे बढ सकते हैं -

1 झूठे जातिगत अहंकार का त्याग
बिना योग्यता सिद्ध किये खुद को बडा और शक्तिशाली मानने की बिमारी से मुक्ति 

2 शराब को देवी देवता मानने और सामाजिक कार्य में शामिल करने की परंपरा से मुक्ति
नई पीढ़ी को समझाना होगा कि शराब कोई देवी नहीं वेश्या है इसका राजपूत समाज से कोई लेना-देना नहीं है। फिर भी कोई पीता है उसका व्यक्तिगत मामला है।
" दारू 🍻 पैर की जूती है इसे कोई सर पर ना रखकर घूमें "

3 आधुनिक शिक्षा व तकनीक शिक्षा को समझना
रोजगार मिले ऐसी शिक्षा ले। 

4 जो राजपूतों के हक के लिए सड़कों पर लङ सके ऐसे नेताओं को आगे बढ़ाना। 

5 महिला शिक्षा को बढ़ावा देना होगा।
" घूँघट प्रथा को राजपूतों की शान समझने से मुक्ति " इस समय घूँघट में बैठी अनपढ़ माँ के बेटे को पढना, आगे बढना बहुत कठिन होता है। 

6 इतिहास पढ़ने और सारे दिन उसको रठने से मुक्ति
नया इतिहास बनाने पर विशेष जोर

इस संदेश को सभी  बन्ना व बाईसा तक पहुंचाए यह हम सब का कर्तव्य है 

आपको ये पोस्ट कैसा लगा हमे कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं ।

धन्यवाद । 

Post credit 
--->> copied From What'S App 

1 comment:

• अगर आप इस पोस्ट के बारे में कुछ कहेंगे या कोई सवाल कमेंट में करेंगे तो हमें बहुत ख़ुशी होगी
● आप अपना स्टेटस कमेंट करे